Hindi Gam ki Shayari | बेखुदी बेखुदी बेखुदी

बेखुदी बेखुदी बेखुदी
मेरे दिल पे ऐसी छायी
तू ही तू मुझमे समाई बन गयी मेरी खुदायी बेलिया
दुनिया हो जाये पराई न देना मुझको रिहाई
अब तू भूल न जुदाई बेलिया
बेखुदी बेखुदी बेखुदी
बेखुदी बेखुदी बेखुदी
मेरे दिल पे ऐसी छायी
तू ही तू मुझमे समाई बन गयी मेरी खुदायी बेलिया
दुनिया हो जाये पराई न देना मुझको रिहाई
अब तू भूल न जुदाई बेलिया
बेखुदी बेखुदी बेखुदी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.