Hindi Shayari

Hindi Shayari

जिन्दगी तुजसे हर कदम पर समजोता

क्यों किया जाए

शोक जीने का है मगर इतना भी नही

की मर मर कर जिया जाऐ

तुझे चाहा तो बहुत इजहार न कर सके,
कट गई उम्र किसी से प्यार न कर सके,
तूने माँगा भी तो अपनी जुदाई माँगी,
और हम थे कि तुझे इंकार न कर सके

दिल के हर कोने में बसाया है आपको,
अपनी यादों में हर पल सजाया है आपको,
यकीं न हो तो मेरी अॉखों में देख लीजिये,
अपने अश्कों में भी छुपाया है आपको

Leave a Reply

Your email address will not be published.