Best Hindi Suvichar

Best Hindi Suvichar

आँख दुनिया की हर एक चीज देखती है

पर जब आँख के अंदर कुछ कला जाता है

तो उसे आँख नही देख पाती

ऐसे ही इंसान दुसरे की गलती तो देख लेता  है

पर खुद की गलती उसे नजर नही आती

उन्होंने सवाल किया, कभी बर्तन धोये हैं ?*

*मैने हैरान होकर कहा, ……. जी धोये हैं।*

*पुछा,….क्या सीखा ?*

*मैंने कोई जवाब नही दिया…*

*वो मुस्कुराये और कहा………*

*”बर्तन को बाहर से कम और*

*अंदर से ज्यादा धोना पड़ता है…….*

*बस यही जिंदगी है

मनुष्य में सुंदरता की*

*कमी हो तो अच्छे आचरण से*

*पूरी की जा सकती है ।*

*पर अच्छे आचरण की कमी हो*

*तो वह सुंदरता से पूरी नही*

*की जा सकती ।।*

*याद रहे, जिस वक्त हम किसी*

*का अपमान कर रहे होते है*

*उस वक्त हम अपना*

*सम्मान खो रहे होते है.

जिसकी सोच में*

आत्मविश्वास की महक है*

जिसके इरादों में*

हौसले की मिठास है….*और*

*जिसकी नीयत में*

*सच्चाई का स्वाद है…..*

*उसकी पूरी जिन्दगी*

महकता हुआ ” गुलाब ” है .*

सारे जगत को देने वाले*

*मैं क्या तुझको भेंट चढ़ाऊँ,*

*जिसके नाम से आए खुशबू*

*मै क्या उसको फूल चढ़ाऊँ

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.